Friday, September 21, 2012

दिल में दबा के दर्द को, होंठों पर मुस्कान बिखेरे हुए ,
छुपा रहे हैं उनकी यादों को हम बीता फ़साना कहते हुए ,
उनकी हर एक अदा याद आती है अब भी,
पर कहते हैं हम ,
ज़माना बीत गया उन्हें भूले हुए ...

No comments:

Post a Comment