Monday, September 17, 2012

दर्द सह-सह कर अब यह हाल है यारों ,
कोई कितना भी ज़ुल्म ढाये, तकलीफ़ नहीं होती ...

No comments:

Post a Comment