Tuesday, September 18, 2012

ढूँढने से दिलबर मिला तोह  क्या मिला,
कोई बेख़बर दिल को भा जाये तोह कोई बात है ...

No comments:

Post a Comment